शिप्रा भाभी की मालिश करके चूत मारी


Click to Download this video!

desi bhabhi sex stories, kamukta

दोस्तों मेरा नाम अनिल है। मैं एक रेस्टोरेंट में काम करता हूं। वहां पर मैं डिलीवरी बॉय का काम करता हूं। हमारे आसपास के जितने भी 5 किलोमीटर के एरिया है। मैं डिलीवरी लेकर जाता हूं। मै इस रेस्टोरेंट में काफी समय से काम कर रहा हूं। हमारा रेस्टोरेंट काफी अच्छा अभी चल रहा है। मेरे मालिक भी काफी अच्छे हैं। मुझे कभी भी कोई समस्या नहीं होती है। वह पेमेंट भी मुझे टाइम पर दे देते हैं। मुझे 5 किलोमीटर के एरिया में सभी लोग जानते हैं। मैं समय पर उनके घर में खाने की डिलीवरी पहुंचा देता हूं। जिससे लोग मुझे टिप देते हैं।और हमेशा यही कहते हैं कि मुझे ही भेजे मेरे मालिक मुझे ही भेजते हैं। क्योंकि मेरा सब लोगों से पहचान हो चुका है। मैं जब से रेस्टोरेंट खुला है करीबन इस रेस्टोरेंट को खुले हुए 10 वर्ष हो चुके हैं। तब से मैं यहीं पर काम कर रहा हूं। मैं अपने मालिक के घर का काफी वफादार हूं। मैं उनके घर में ही रहता  हूं। वह मुझ पर कफी भरोसा करते हैं। जब कभी वह इधर उधर जाते हैं। तो मुझे कहते हैं तो कैश काउंटर पर बैठ जाना।

आज तुम ही संभालना वह मुझ पर इतना भरोसा करते हैं। मैं भी  उन्हें काफी अच्छा मानता हूं और मेरी हर एक बात का ख्याल रखते हैं। मुझे पैसों की आवश्यकता होती है। मुझे समय पर वह पैसे दे देते हैं। जब भी मुझे मेरे घर पर मेरे मां को पैसे भेजने होते हैं। तो वह मुझे एक बार कहते ही मुझे पैसे दे देते हैं। जिसे मुझे उनके साथ काम करने में भी अच्छा लगता है। और वह मुझे अपने बच्चे की तरह ही रखते हैं। इतना प्यार और सम्मान मुझे वहां मिलता है। तो मैं उनके वहां से कहीं पर भी दूसरी जगह काम करने आज तक नहीं गया। 10 साल काम करते हो गए तब से मैं यहीं पर हूं। जहां पर हमारा रेस्टोरेंट है वहीं के पास की बिल्डिंग में डिलीवरी लेकर गया। मैं जैसे ही वहां पहुंचा तो वहां मैंने देखा कि वहां पर एक भाभी खड़ी हैं। जो कि काफी मस्त और हॉट है। उनका फिगर बहुत ही अच्छा था। मैं आज तक जहां भी डिलीवरी देने गया। मैंने उनकी जैसी भाभी कहीं पर भी नहीं देखी। जब वह मुझसे डिलीवरी लेने आई तो उन्होंने एक गाउन टाइप का बना हुआ था। जिसमें वह बहुत ही सुंदर और सेक्सी लग रही थी। मुझे भाभी को देख कर ही ऐसा लगा कि मैं आज अच्छे से चोदू लेकिन मैं नौकर आदमी हूं मैं ऐसा कर नहीं सकता था। मैं डिलीवरी देकर उन्हें वहां से चला गया। उन्होंने मुझे कुछ पैसे पकड़ाया और कहा मैं खाना टेस्ट करके तुम्हारे मालिक को बता दूंगी कि खाना कैसा है। मैंने कहा मैडम आप खाना खाइए आपको बहुत ही अच्छा लगेगा आप बेफिक्र रहे हैं। आप हमारे यहां से हमेशा ही खाना मंगवाएंगे। जब भी आपको जरूरत होगी तो मैं तुरंत आपके लिए अपने रेस्टोरेंट से खाना लेकर आ जाया करूंगा। वह कहने लगी ठीक है। मैं आज पहले ट्राई करती हूं। मुझे अच्छा लगा तो मैं फोन करूंगी।

मैं वहां से चला गया और रेस्टोरेंट में अपने काम पर लग गया। आज शाम को भी काफी डिलीवरी थी तो मैं सब जगह ले गया। घर वापस लौटा और आराम करने लगा। जब मैं घर वापस लौटा तो मैं आज यह सोच रहा था कि वह भाभी कितनी सुंदर और सेक्सी हैं। मुझे उन्हें देखकर काफी अच्छा लग रहा था। मेरा मन था कि उनके साथ सेक्स करने का लेकिन देखते हैं कैसे बात आगे बढ़ती है क्या वह आज के बाद कभी मुझे बुलाएंगे डिलीवरी के लिए या नहीं यह सोचते सोचते सो गया।

अगले दिन फिर अपने काम पर चला गया। मैं रोज की तरह अपने काम पर लगा हुआ था। मैं डेली आर्डर देना जाता और कभी दुकान में काम संभालता। ऐसा करते-करते काफी समय हो गया था। लेकिन वह भाभी का कोई भी आर्डर अभी तक नहीं आया था। तो मैंने सोचा शायद उन्हें हमारा खाना अच्छा नहीं लगा हो। इस वजह से उन्होंने हमें कोई आर्डर नहीं दिया।

मैं अपने काम पर लग गया। भाभी को भुल कर तभी एक दिन वह भाभी मुझे हमारे रेस्टोरेंट के बाहर से जाती हुई दिखी। वह हमारे रेस्टोरेंट में खाना खाने के लिए बैठ गई। मैंने उन्हें पानी पिलाया और उनसे पूछा मैडम क्या लेंगे। उन्होंने मुझे पहचान लिया और वह कहने लगी। तुम वही हो ना जो उस दिन मेरे घर पर डिलीवरी देने आए थे। मैंने कहा हां जी मैं वही हूं। उन्होंने वहां खाना खाया और मुझे कहने लगी क्या तुम मुझे रात के समय में डिलीवरी पहुंचा सकते हो। मैंने कहा ठीक है जब आप बोलेंगे तो मैं पहुंचा दूंगा। उन्होंने बोला तुम्हारा रेस्टोरेंट रात में कितने बजे तक खुला रहता है। मैने बोला कि 12:30 बजे तक खुला हुआ रहता है। आप 12:30 बजे तक कभी भी ऑर्डर करवा दें। उन्होंने कहा अगर मुझे कभी 1:00 बजे चाहिए हो और मैं तुम्हें पहले फोन कर दूं तो मुझे मिल जाएगा। मैंने कहा हां जी आपको मिल जाएगा उन्होंने बोला ठीक है। तुम कल से 12:30 बजे के आसपास ले आना। मैं तुम्हारे  रेस्टोरेंट में फोन कर दूंगी। मैंने उन्हें कहा ठीक है अब उन्होंने वहां पर खाना खाया और वह चली गई।

अगले दिन रात को 12:30 बजे उनका फोन आया। मैं उनके घर 10 मिनट में पहुंच गया। मैंने डिलीवरी दी और वापस आ गया। अब रोज ही हमारे रेस्टोरेंट से खाना मगवाने लगी। मैं रोज उनके लिए खाना ले जाता और फिर वापस लौट आता।

एक दिन उन्होंने मुझे रोक कर कहा तुम्हारा नाम क्या है। मैंने उन्हें बताया  सब कुछ जानकारी दी। उन्होंने मुझे आज पैसे दिए अगले दिन भी मैं आ जाऊं। उनके लिए खाना लेकर गया तो वह आज काफी नशे में थी और उन्होंने मुझे अंदर बुला लिया। जैसे ही मैं अंदर गया। उन्होंने मुझे वहां बैठा दिया और मैंने उनसे पूछा आज आपने क्या शराब पी रखी है।  उन्होंने कहा हां मैंने बहुत शराब पी है। वह काफी टेंशन में लग रही थी। तो मैंने उन्हें कहा चिंता करने की कोई बात नहीं है। आप टेंशन ना लें मैंने उन्हें समझाने की कोशिश की लेकिन वह नहीं समझी। उन्होंने मुझे पकड़ लिया और मुझे चूमने लगी और कहने लगी आज तुम मुझे चोदोगे जैसे ही मैंने उनके मुंह से यह सब सुनो तो मैं अपने आप को काफी अच्छा महसूस करने लगा। मैंने उनके नाइटी को पूरा खोल दिया। उन्होंने पेंटी ब्रा पहनी हुई थी। वह काफी सेक्सी लग रही थी। उसमें उनका फिगर बड़ा ही अच्छा था।

उनके स्तन 36 के थे और उनकी गांड भी 36 की थी। मुझे तो ऐसा लग रहा था कि मैं उनकी स्तनों पर लटक जाऊं। अब मैंने उनके स्तन जैसे अपने हाथ में पकड़े तो वह बहुत भारी थे। मैंने उसमें अपने मुंह से कुछ दांत से काट दिया और उनके स्तनों का रसपान करने लगा। जैसे जैसे मैं उनके स्तन रसपान करता जाता। उन्हें काफी अच्छा लगने लगा।

अब मैं उनके पेट में भी अपने मुंह से चाटना शुरू कर दिया। उनकी योनि को चाटने लगा वो कहने लगी तुम बड़े अच्छे से चाट रहे हो मुझे अच्छा लग रहा है। मैंने उनकी  योनि में अपनी जीभ भी डाल दी और जीभ को अंदर बाहर करने लगा। जैसे-जैसे में जीभ को अंदर बाहर कर रहा था। तो उनका चूत का पानी गिर गया मेरे मुंह के अंदर और मैंने उसे पूरा चाट लिया। जैसे ही मैं उनकी चूत को चाटता वह अपने पैरों से दबा लेती। उन्होंने काफी देर तक छोड़ा ही नंही और उसके बाद में उनके ऊपर से लेट गया। जैसे ही मैं उनके ऊपर लेटा तो मैंने देखा उनके स्तन मेरी छाती पर लग रहे हैं। जिससे मुझे काफी अच्छा लग रहा है। मैंने उन्हें अपने लंड के ऊपर बैठा दिया। जैसे ही मैंने उन्हें लंड पर बैठाया तो उनकी बड़ी से गांड मेरे जांघों पर टकरा रही थी। मैं नीचे से ऐसे ही धक्का मारता रहा। मुझे अच्छा लगने लगा मैंने कुछ देर तो ऐसा किया। उसके बाद मैंने उन्हें अपने नीचे लेटा लिया और उनकी योनि पर अपने लंड से प्रहार करने लगा। मैं काफी देर से धक्के मार रहा था। वह चिल्ला रही थी ऐसे ही करो कुछ देर मे मेरा झड गया। मैंने उनके बड़े स्तनों पर गिरा दिया और वह अपने स्तनों को मुंह में लेकर चाटने लगी। उसके बाद से वह मुझे हमेशा ही अपने घर कुछ ना कुछ  लेकर बुलवा लेती है। मैं उनको  उनके घर पर अच्छे से चोदता। मुझे उन भाभी में पता नहीं क्या लगने लगा था। मैं उनके लिए बहुत ज्यादा पागल हो गया था। जब भी वह मुझे बुलाती। मै बड़ी तेजी से उनके घर पहुंच जाता।