ड्राईवर और मेरी चूत की प्यास


antarvasna, hindi sex kahani, नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम नूरा  है और मैं दिल्ली  की रहने वाली हूँ | मेरी उम्र 28 साल है और मैं एक विधवा औरत हूँ।   मैं दिखने में गोरी हूँ और मेरा फिगर सेक्सी है।  पति को गुजरे हुए टाइम हो गया और टाइम से साथ साथ मेरी चुत की प्यास भी बढ़ती गयी।  मैं नौकरी करती हूँ, पैसों  की कमी नहीं है लेकिन चुत की प्यास बुझाने वाला कोई नहीं है। खैर, अब मैं कहानी पर आती हूँ।

मेरा एक नौकर है जिसका नाम छोटू है।  वो मेरे घर बाहर एक गॉर्ड रूम है उसमे रहता है।  जब से गार्ड नौकरी छोड़ कर गया है, मैंने ये कमरा छोटू को दे दिया है।  वो खुले में नहाता है कई बार।  एक दिन वो ऐसे ही गार्डन में पानी डालते हुए उसे पाइप से नहा भी रहा था।  उसने बस तौलिया था।  गीली तौलिया होने के कारन मुझे उसका लंड खिड़की से साफ़ दिखाई दे रहा था।  मुझे कुछ कुछ होने लगा।  फिर मैंने ध्यान दिया ये कुछ और नहीं, मेरी चुत की खुजली थी।  मैं सोच में पद गयी की मैं अपनी चुत को छोटू से कैसे चुदवाऊँ। दिमाग लगाने के बाद मेरे मन में एक आईडिया आया।  मैंने कुछ रुपये छुपके उसके कमरे में बिस्तर के निचे रख दिए और फिर उसको बुलाया।  मैं बोली – मेरे पर्स से कुछ रुपये गायब हो गए हैं जब ये गाडी में था।  गाडी में तुम्हारे अलावा कोई नहीं जाता है, कहीं तुमने तो नहीं निकाले हैं ? वो बोलै – नहीं मैडम, मैंने नहीं निकाले हैं।  मैंने कहा – रुको मैं तुम्हारे करे की तलाशी लेती हूँ।  वो बोला – ठीक है मैडम, ले लो।  मुझे तो पता ही था की रुपये कहाँ हैं। मैंने उसके कमरे में गयी और पैसे निकल आये।  वो रोने लगा और बोला – मैडम, भरोसा करिये, मैंने नहीं निकाले।  आप प्लीज पुलिस  बुलाइयेगा, मैं आप जो भी कहेंगी, करने के लिए तैयार हूँ।  मैं -बोली   पक्का,जो कहूँगी ? वो बोला हाँ।  मैं बोली – अभी नंगे होक उठक बैठक लगाओ।  वो बोला – मादा, ये कौन सी सजा है ? मैं बोली – लगाते हो या मैं बुलाऊँ पोलिस को ? वो शरमाते हुए कपडे निकाल कर उठक बैठक लगाने लगा। उसका लंड सच में बहुत बड़ा है और मोटा भी है।  ये देख कर मेरी चूत से पानी रिसने लगा और उसका लंड मुंह में लेने का मन करने लगा।  पर मैंने अपने आप पर काबू रखा क्यूंकि ऐसे सीधा कहना गलत होता।  

मैं उससे बोली -इधर आओ।  मैं -बोली  उठक बैठक बहुत लगानी पड़ेंगी, दूसरा काम काम करना पड़ेगा।  वो बोलै – क्या ? मैं बोली – अपने लंड को थोड़ा मेहनत करवा दो, तुम्हे काम करने पड़ेगी।  वो समझ गया।  थोड़ा शरमाते हुए बोलै – ठीक है मैडम जैसा आप बोलो। मैं उसके पास गयी और उसे उठा कर कुर्सी में बेठा दी।  अब मैं अपने होंठ उसके होंठ पर रख दिए और उसके होंठ को चूसने लगी साथ में उसके लंड को भी हिलाने लगी।  वो भी मेरा साथ देते हुए मुझे किस करने लगा और मेरे दूध को मसलने लगा।  मुझसे रहा नहीं जा रहा था।  मैंने तुरंत उसके मोठे लंड को हाथ में लिया और उसके लंड को चाटने लगी तो वो आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते  हुए सिस्कारिया लेने लगा।

मैंने अब उसके गोटे सहलाने शुरू कर दिए और उसके लंड को अपने मुंह में डाल कर चूसने लगी। वो आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए मेरे सिर को दबाने लगा लंड पर।  फिर उसने मुझे नंगी कर दिया और मेरे दोनों दूध को अपने मुह में ले कर जोर जोर से मसलते हुए चूसने लगा।  मेरे मुंह से भी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ की सिस्कारिया लेने लगी। फिर उसने मुझे वही पर लेटा दिया और मेरी टाँगे चौड़ी कर दिया और मेरे चूत में अपनी जीभ रख कर चाटने लगा.  तो मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए मचलने लगी। 

मैं बोली – अब और न तड़पाओ छोटू, चोद दो मेरी चूत।  वो तो तैयार ही था। उसने मेरी चूत में अपना लंड टिकाया और एक ही झटके में घुसेड दिया और धीरे धीरे शॉट मारते हुए चोदने लगा।  मैं बोली – जोर से चोदो छोटू, जोर से। मैंने भी उसको जोश दिलाने के लिए  आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करना शुरू कर दिया  और गांड उठा उठा कर चुदवाने लगी। फिर उसने अपनी चुदाई की स्पीड बढ़ा दिया और जोर जोर से धक्के मार मार कर चोदने लगा तो मैं भी जोर जोर से आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ की सिस्कारिया लेने लगी। अब मेरी चुत से पानी निकलने वाला था।  मैंने धक्के तेज करने को कहा और फिर झड़ गयी। कुछ देर की चुदाई के बाद उसने भी मेरे मुंह के ऊपर ही अपना माल निकाल दिया।

उस दिन के बाद हम दोनों आज भी चुदाई करते हैं। दोस्तों ये थी मेरी कहानी | मैं उम्मीद करती हूँ कि आप सभी को मेरी ये कहानी जरुर पसंद आयगी आप सभी कहा मेरी कहानी पढ़ने के लिए धन्यवाद। 

कृपया कहानी शेयर करें :