दोस्त की माँ के साथ पुणे में मजे


हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम रोहित है और आज एक बार फिर से आप सभी चाहने वालों की सेवा में अपनी सच्ची कहानी को लेकर आ गया हूँ, जिसमें मैंने अपने दोस्त की माँ के साथ पुणे में बहुत मज़े किए और अब में उस घटना को पूरी तरह विस्तार से सुनाता हूँ.

दोस्तों में यहाँ पर एक प्राइवेट कम्पनी में नौकरी करता हूँ और मेरा यहाँ पर एक बहुत अच्छा दोस्त बन गया. जिसका नाम प्रणव है, जो कि मेरे घर के पास वाले घर में रहता है और वो भी मेरी ही कम्पनी में काम करता है, जब वो छोटा था तो बचपन में ही किसी बीमारी से उसके पापा की म्रत्यु हो गयी थी, लेकिन वो बहुत ही कम समय में मेरा एक बहुत अच्छा दोस्त बन गया था. फिर हम रात को एक साथ बैठकर दारू, सिगरेट पीते और यहाँ वहां घूमते, लेकिन मुझे अब पिछले पांच दिनों से उसका मेरे लिए थोड़ा थोड़ा व्यहवार बदला हुआ सा लगने लगा था.

एक दिन जब में उसके घर पर गया तो मैंने उसकी हॉट माँ को देखा, वो तो पूरी ग्रहणी दिख रही थी. मस्त सावला रंग, पूरे भरे भरे बूब्स, मस्त गांड वो बहुत सेक्सी लग रही थी. फिर में कुछ देर वहां पर रुककर अपना काम खत्म करके अपने घर पर चला आया, लेकिन अब में उस दिन के बाद से हर रोज वहां पर ठीक उसी समय जाने लगा था.

फिर एक दिन जब हम ड्रिंक कर रहे थे तब मेरे दिमाग़ में एक प्लान आ गया और मैंने ऐसे ही सही मौका देखकर उससे बोला कि मुझे आंटी के साथ सेक्स करना है क्या तू मेरी कुछ मदद कर सकता है? क्योंकि में उसके बाद ही तेरे बारे में कुछ सोचूँगा और तेरा कोई जुगाड़ भी करवा दूँ. दोस्तों वो मुझे अपना मानता था तो उसने भी कुछ देर सोचा और फिर मुझे उसने सब कुछ सच बोल दिया कि उसकी माँ तो एक नंबर की रंडी है, वो तो ना जाने कितने लोगों से हर कभी चुदवाती रहती है.

दोस्तों फिर क्या था मुझे तो उसकी यह बात सुनकर उसकी तरफ से पूरा ग्रीन सिग्नल मिल गया और में समझ गया कि यह मुझसे अपना काम करवाने के लिए मेरा भी काम जरुर करवा देगा और मुझे इस काम में कहीं भी कोई रुकावट नहीं आने देगा. तभी वो मुझसे बोला कि दो दिन बाद छुट्टी के दिन हम सब फ्री बिल्कुल होंगे और में जानबूझ कर उस दिन बाहर अपने अंकल के पास चला जाऊंगा. उस दिन मेरे घर पर मेरी माँ एकदम अकेली रहेगी और तू मौका देखकर मेरे घर पर चला जाना और आगे का काम तू जानता ही है कि कैसे उसे तू अपनी बातों में फंसाकर उसके साथ क्या क्या करेगा और तुझे क्या करना है, तू तो पहले से ही बहुत समझदार है.

फिर में उसकी पूरी बात सुनकर मन ही मन बहुत खुश हो गया. मैंने उससे कहा कि ठीक है और फिर मैंने उसको मेरी मदद करने के लिए धन्यवाद कहा और अब में उस दिन का इंतजार करने लगा और इस बीच मैंने कई बार आंटी को उनके घर पर जाकर मौका देखकर छुआ भी और उनको अपनी नजर से घूरकर भी देखा, में लगातार उनके बूब्स को ताकता रहता, जब वो घर का कोई काम करती तो में जानबूझ कर उनके सामने आकर उनकी छाती को देखता और उनसे हंसी मजाक करता, में हमेशा उनसे दो मतलब की बातें करता और जिनका मतलब वो बहुत जल्दी समझकर मुस्कुराने लगती और मुझे उसका मुस्कुराना बहुत अच्छा लगता था.

फिर दो दिन इस तरह दिन बिताने के बाद आखिरकार वो दिन आ ही गया जिसका मुझे बहुत बेसब्री से इंतजार था और मुझे उस दिन सुबह मेरे दोस्त ने अपने घर से निकलने के बाद फोन करके बता दिया था. अब में तुरंत सुबह ही उठ गया और उसके घर पर पहुंच गया. मैंने वहां पर जाकर देखा कि प्रणव घर पर नहीं था और आंटी घर के काम में लगी हुई थी और वो उस समय तक नहाई भी नहीं थी और फिर जैसे ही में अंदर गया तो वो मुझसे हंसकर बोली कि आइए राजकुमार, क्यों आज कैसे याद आई हमारी? तो मैंने भी बोल दिया कि मुझे कभी आपकी याद नहीं आती, क्योंकि में कभी आपको भूलता ही नहीं. अब वो हंसकर इधर उधर की बातें करने लगी.

फिर कुछ देर बाद मैंने भी उनसे बोल दिया कि आज मुझे भी घर पर जाकर खाना पकाना है और मेरी माँ बाहर गई हुई है. फिर वो बोली कि तू क्यों अपने घर पर जाता है तू यहीं पर खा ले, में तेरे लिए भी खाना बना देती हूँ ना और हम दोनों मस्त पार्टी करेंगे, आज वैसे भी प्रणव घर पर नहीं है और में घर में अकेली बोर हो रही हूँ, तेरा साथ रहा तो मेरा भी मन लगा रहेगा.

दोस्तों में भी तो मन ही मन यही सब चाहता था, जो आंटी ने खुद अपने मुहं से मुझसे कह दिया और अब में उन्हें किचन के कामों में उनकी मदद करने लगा और वो मुझसे हंस हंसकर बातें कर रही थी और बहुत सेक्सी लग रही थी. उनके बाल बिखरे हुए थे और उस समय वो एक बड़े गले की मेक्सी में थी, जिसकी वजह से उनके बड़े आकार के बूब्स मुझे काम करते समय झूलते हुए बहुत अच्छे लग रहे थे, वाह मज़ा आ गया और में हर बार किचन में इधर उधर हर बार उनकी गांड को जानबूझ कर यहाँ वहां छू रहा था, लेकिन वो मुझसे कुछ भी नहीं कहती बस मेरी तरफ हंस देती और में उनकी उभरी हुई छाती को देख रहा था और उसके मज़े ले रहा था.

तभी उन्होंने मेरी तरफ देखा और शरारती हंसी देकर वो मुझसे बोली कि क्या हुआ मुझे ऐसे क्या देख रहा है, क्या तूने कभी किसी को नहीं देखा जो मुझे आखें फाड़ फाड़कर देख रहा है क्या मुझे खा जाएगा? तो मैंने बोला कि ऐसा कुछ नहीं है में तो बस ऐसे ही आपको देख रहा था. तभी वो मुझसे बोली कि ऐसे लड़कियों की तरह शरमाता क्यों है बोल देना समुंदर के पास खड़ा रहकर पानी को नहीं देखेगा तो क्या करेगा, क्यों मैंने ठीक कहा ना? तो मैंने बोला कि हाँ आपने बिल्कुल सही कहा और इस मुसाफिर को तो कब से प्यास लगी है, लेकिन आप है कि पानी ही नहीं पिला रहे.

फिर वो ज़ोर से हंसते हुए बोली कि यह सब पानी आपका ही है, चाहिए जितना पी लो, आपको किसने रोका है. दोस्तों मैंने देर ना करते हुए तुरंत उसका एक हाथ पकड़कर उसे अपने पास खींच लिया और उसे अपनी बाहों में लेकर किस करने लगा और अब कुछ देर बाद मैंने महसूस किया कि उसने भी मुझे टाईट हग किया और में अपना एक हाथ उसकी गांड पर फेर रहा था, तभी वो मुझसे बोली कि रुक पहले में खाना बना लेती हूँ, वरना यह सब ऐसे ही रह जाएगा.

अब वो दोबारा अपना काम करने लगी और में पीछे से चालू हो गया, में कपड़ो के ऊपर से उसके बूब्स को ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा और उसकी मेक्सी के अंदर अपना एक हाथ डालकर में उसकी चूत पर रगड़ रहा था और अपनी एक ऊँगली को धीरे धीरे अंदर बाहर कर रहा था, जिसकी वजह से वो जोश में आकर सिसकियाँ ले रही थी और फिर वो खाना बनाने के बाद मुझसे बोली कि चल अब बाथरूम में हम वहां पर चलते है और उसने तुरंत अपनी मेक्सी को उतार दिया.

अब वो सिर्फ़ ब्रा, पेंटी में थी और वो मेरे भी कपड़े उतारने लगी और उसने मेरे भी सारे कपड़े उतार दिए. फिर झट से अपने घुटनों पर बैठकर वो मेरे लंड को सहलाकर मुझे बहुत मज़ा देने लगी, वाह उसके होंठो को छूते ही मुझे वो अहसास आया में आपको क्या बताऊँ? वो अब ज़ोर ज़ोर से मेरे लंड को लोलीपोप की तरह चूसने लगी थी और करीब दस मिनट तक चूसने के बाद उसने मेरा सारा पानी बाहर निकाल दिया और मैंने सारा पानी उसके मुहं पर छोड़ दिया, वो क्या मस्त लग रही थी, मेरे आंड को चाट रही थी. फिर उठकर उसने पानी चालू किया, हम दोनों भीग गये. फिर हमने प्यार करना शुरू किया, वो साली रंडी की तरह मुझे किस किए जा रही थी और उसके साथ साथ वो अब मेरे पूरे बदन को किस रही थी, जिसकी वजह से मुझे कुछ होने लगा था.

फिर मैंने उसकी पेंटी को उतार दिया और उसका एक पैर बेसिन पर रखकर नीचे बैठकर चूत को नीचे से चाटने लगा, जिसकी वजह से वो बहुत सेक्सी आवाज़े निकालने लगी थी और में चोकलेट की तरह उसे चाट रहा था और वो आआहह उफ्फ्फ्फ़ ऐसे आहें भरने लगी थी. फिर मैंने चाटने के साथ चूत में अपनी एक ऊँगली को घुसा दिया और साथ में चूसता भी रहा तो वो तड़पने लगी और में ज़ोर से ऊँगली अन्दर बाहर करने लगा. फिर कुछ देर बाद वो मेरे मुहं में झड़ गई और मैंने उसका रस चखा.

अब उसने एक बार फिर से मेरा लंड अपने मुहं में ले लिया और चूसने लगी. करीब पांच मिनट चूसने के बाद मैंने अब ज्यादा देर ना करते हुए उसका एक पैर फैलाकर उसी पोजीशन में अपना लंड चूत में डालकर उसे चोदना चालू किया और लंड के चूत के अंदर जाते ही वो एकदम मस्त हो गई और मज़े करने लगी, मुझे गालियाँ देने लगी और मुझसे कहने लगी उफ्फ्फ्फ़ आह्ह्ह्हह्ह हाँ और ज़ोर से चोद मुझे साले हाँ पूरा अंदर घुसा उफ्फ्फ्फ़ हाँ डाल दे पूरा का पूरा मेरी चूत के अंदर और मुझे जमकर चोद आह्ह्ह. दोस्तों अब में भी उसकी वो जोश से भरी आवाज़ सुनकर एकदम मस्त होकर जोरदार धक्के देकर चुदाई करने लगा और ऊपर से ठंडा ठंडा पानी और नीचे से गरम गरम सेक्सी चूत, वाह दोस्तों क्या मज़ा आ रहा था में आपको शब्दों में नहीं बता सकता.

फिर मैंने उसे ऐसे ही पोजीशन में करीब बीस मिनट तक चोदा और फिर मैंने उसे दीवार पर थोड़ा झुकाया और दोबारा धक्के देना शुरू किया, लेकिन वो साली कुतिया आवाज़ बहुत मस्त निकाल रही थी. वो अब तक अपने पूरे जोश में आ चुकी थी और अब में उसके बूब्स को भी पीछे से पकड़कर और भी ज़ोर ज़ोर से धक्के देकर चोदने लगा था, जिसकी वजह से मस्त पच पच फच की आवाज़ आ रही थी.

फिर मैंने कुछ देर बाद जब में झड़ने वाला था, तब तुरंत अपना लंड चूत से बाहर निकालकर अपना वीर्य उसकी गांड के ऊपर छोड़ दिया. वो एक बार फिर से लंड को अपने मुहं में लेकर चाटने चूसने लगी और कुछ देर बाद अब वो नहाने लगी और वो अपने पूरे बदन पर साबुन लगाने लगी और वो मेरे भी शरीर को साबुन को लगा रही थी और मसल रही थी.

दोस्तों में क्या करूं? उसके गरम बदन को हाथ लगाते ही मेरा लंड दोबारा से खड़ा होना शुरू हो गया, वो तो लगातार मसल रही थी. फिर उसने नहाने के बाद फिर से लंड को चूसना शुरू किया और इस बार मैंने शेम्पू लिया और उसकी गांड के छेद पर लगाया और थोड़ा सा मेरे लंड पर भी लगा लिया. फिर उसे जमीन पर झुकने को कहा तो वो बोली कि मुझे वहां पर कुछ भी नहीं करना और मैंने अब तक ऐसा कभी नहीं किया है और वो मुझसे लगातार ना बोल रही थी, में तुम्हें अपनी गांड नहीं दूंगी.

दोस्तों में अब उसकी कोई भी बात कहाँ सुनने वाला था, मुझ पर तो चुदाई का भूत सवार था, में उसको जबरदस्ती झुकाकर अपने लंड को उसकी गांड के छेद में घुसाने लगा और लंड थोड़ा अंदर घुसते ही वो उछलने लगी और मुझे रोकने लगी. फिर मैंने उसके दोनों हाथ पकड़कर पीछे से एक ज़ोर का धक्का दे दिया तो मेरा लंड शेम्पू की चिकनाहट की वजह से पूरा का पूरा फिसलता हुआ उसकी गांड में चला गया और उसके मुहं से बहुत मस्त चीख निकली, वो अब उस दर्द से तड़पने लगी और आहें भरने लगी, मुझे गालियाँ देने लगी और ज़ोर ज़ोर से धक्के देकर उसकी गांड मारने लगा. मैंने उसके दोनों हाथों को पीछे से पकड़ रखा था. दोस्तों मुझे वाह क्या मज़ा आ रहा था और उसकी फच फच की आवाज़ मुझे बिल्कुल पागल बना रही थी.

फिर कुछ देर बाद मैंने उसके दोनों हाथ छोड़कर उसके बाल पकड़ लिए तो वो बोली कि उफफ्फ्फ्फ़ आह्ह्ह्ह प्लीज छोड़ दे मुझे कुत्ते में मर जाउंगी प्लीज मुझे बहुत दर्द हो रहा है आआअहह, लेकिन मुझे बहुत मस्त लग रहा था और फच फच की आवाजे बहुत अच्छी लगने लगी थी और में उसकी बहुत देर तक गांड मारता रहा और करीब बीस मिनट के बाद मैंने उसकी गांड में अपना पूरा वीर्य छोड़ दिया, लेकिन दोस्तों हमने क्या मज़े दिए एक दूसरे को, मज़ा आ गया. अब जब भी मुझे समय मिलता है तो में उसे हर एक पोज़िशन में चोदता हूँ और वो अब हर बार मेरा पूरा पूरा साथ देती है. मैंने उसको हर बार अपनी चुदाई से संतुष्ट किया.

error:

Online porn video at mobile phone


maa chodne ki kahanischool teacher ki chudai storychut ki chudai in hindi storysex latest story in hindimuth marom antarvasna comhindi wife sex storysexy stories in hindi mehindi sexy kahani chudaichudai pagesex kahani for hindisweta ki chudaibeti ki chudai hindi kahanimummy ki chudai xossipaunty ki chudai train medesi group sex storiesgf bf ki chudaichudai chachi ke sathsas damad sexbhabhi ne ki chudaibudhi aurat ko chodamaa ko zabardasti chodahindi font chudai storylesbian sex story in hindisote hue bhabhi ko chodabhabhi ko chodboobs story in hindidesi family chudai storieshot sexy chudai kahaniantarvasna bhai behan chudaishanti bhabhi ki chudaimaa ne bete se chudaischool teacher ko jabardasti chodaincest desi storiesmoti bhabhi ki chudaimaa ki gand mari hindi storykuwari chudai ki kahaniज़बरदस्ती मेरी बजी को पुलिस ने छोड़ाchudai story jija salidesi bhosdafrnd ki maa ko chodanind me maa ko chodalund chut ki storyristo me chudai storyhindi antarvasna hindisex hot stories hindigay fuck story in hindijabardasti chudai story in hindixxx hindi kathaladki ko chodamaa aur bete ki chudai ki kahanisasur bahu ki chudai in hindibhau ki chutbeti ki chudai kahanisasurji ne bahu ko chodadirty story in hindibhabhai ki chutghar me chudai dekhibhabhi ki chut me paninangi aunty ki gaandbhabhi chuchihindi bahan ki chudaiKamukta padosanmaa ko choda kahani hindiantravasasna hindi storysex story of mom in hindiVARANASI Ki deepu Didi Ki chudaihindi kamuk kahaniyajija sali hindi sexmy hindi sextrain me chudai storywww sex kahaniyamami ki chudai sexy storywww antarvasn comblue film dikha k chodaapne bete se chudaimast hindi sex storychut chudai ki kahani in hindibehan bhai ki chudai ki storyhindi gayantaryasnabahan ko bhai ne chodabhabhi ko nangi karke chodalatest bhabhi storyhindi dex storibhabhi ki chudai ki storiwww.patnisexstory.comgandi hindi sex kahaniaunty ki bursexy latest hindi storymaa ko pregnent kiyamaa aur bahan ki damdar chudai rat kobhabhi ko maa banayaantarvasna lesbianmast kahani chudai kihindi hot chudai storiesantarvasna teacher ki chudaichote bache ki gand marigaand ki garmisex stories of teacher and student